Latest delhi news:जेवर में बनने जा रहा है एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट जिसे दिल्ली के इंदिरा गांधी एयरपोर्ट को मेट्रो से जोड़ने की हो रही है तैयारी, दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMCR) जेवर से नई दिल्ली तक बनी मेट्रो स्टेशन तक हाई स्पीड मेट्रो कॉरिडोर बनाने के लिए प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है। तथा यमुना प्राधिकरण सीईओ डॉक्टर अरुणवीर सिंह ने बताया डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (DPR) जल्द ही तैयार हो जाएगी। और उन्होंने बताया कि एयरपोर्ट से मुख्य जगहों की कनेक्टिविटी को लेकर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।

Latest delhi news:इस कॉरिडोर के बनने के बाद जेवर एयरपोर्ट से नई दिल्ली रेलवे स्टेशन की दूरी केवल 1 घंटे में तय हो जाएगी। तथा इस कॉरिडोर पर दौड़ने वाली मेट्रो ट्रेन की स्पीड 120 किलोमीटर प्रति घंटा की होगी। तथा जेवर एयरपोर्ट से नई दिल्ली तक इस कॉरिडोर को बनाने में लगभग 15000 करोड रुपए का खर्च आएगा। और इस कॉरिडोर को दो चरणों में बनाया जाएगा। जेवर एयरपोर्ट से नई दिल्ली के बीच केवल 13 स्टेशन होंगे।

पहला चरण

Delhi news:पहला चरण जेवर एयरपोर्ट से नॉलेज पार्क 2 ग्रेटर नोएडा कब बनाया जाएगा। जेवर से नॉलेज पार्क 2 तक एलिवेटेड ट्रैक होगा। इसमें सात स्टेशन होंगे। यह स्टेशन नॉलेज पार्क 2, टेकजोन, सलारपुर अंडरपास, सेक्टर 18, सेक्टर 20 ,सेक्टर 28-29 इस प्रकार होंगे, और इस कॉरिडोर को बनने में लगभग 6000 करोड़ का खर्च आएगा।

दूसरा चरण

Delhi news:दूसरे चरण में नॉलेज पार्क 2 से लेकर नई दिल्ली तक कॉरिडोर बनाया जाएगा। यह कॉरिडोर पूरी तरह से नया होगा। ग्रेटर नोएडा से यमुना बैंक तक एलिवेटेड कॉरिडोर बनाया जाएगा तथा यमुना बैंक से नई दिल्ली तक अंडर ग्राउंड कॉरिडोर बनेगा। ग्रेटर नोएडा से नई दिल्ली के बीच में 6 स्टेशन होंगे सेक्टर 142, बोटैनिकल गार्डन, न्यू अशोक नगर, यमुना बैंक और नई दिल्ली स्टेशन प्रस्तावित किए गए हैं इसके बाद एक कॉल स्टेशन प्रस्तावित किया जाएगा था इस कॉरिडोर को बनने में लगभग ₹9000 करोड़ का खर्च आएगा।

जो कि बहुत ज्यादा है। और दिल्ली गुडगांव फरीदाबाद जाने वाले यात्रियों को ब्लू लाइन मेट्रो में जाने के लिए सेक्टर 51 से या तो पैदल चलना होता है या ई-रिक्शा करना होता है। जिसमें समय भी ज्यादा खर्च होता है और पैसे भी खर्च होते हैं। इस परेशानी से बचने के लिए लोग परी चौक से मेट्रो में बैठने की बजाए बस में या कैब में या अपने पर्सनल वाहन में बोटैनिकल गार्डन तक यात्रा करना पसंद करते हैं। इसी असुविधा को ध्यान में रखते हुए इस बार जेवर एयरपोर्ट से नई दिल्ली तक डीपीआर डिजाइन किया जा रहा है। ताकि लोगों को इस कॉरिडोर के बनने के बाद यह समस्या ना हो।

लोग के लिए बस या कैब में जाना पसंद करते हैं। इसका कारण यह है कि एक्वा लाइन मेट्रो का रूट व्यवहारिक नहीं है। एक्वा लाइन मेट्रो नॉलेज पार्क 4 से होते हुए परी चौक यमुना एक्सप्रेसवे के समांतर होते हुए नोएडा सेक्टर 142 से अंदर की तरफ मुड़ जाती है और फिर सेक्टर 51 पर जाकर खत्म हो जाती है। इस दूरी को तय करने में लगभग 50 मिनट का समय लगता है।

Vikash Rathore

News activist, Political commentator