जर्मनी में चाइल्ड पोर्नोग्राफी के एक प्रमुख रैकेट का खात्मा किया गया है. इसे दुनिया के सबसे बड़े चाइल्ड पोर्नोग्राफी के डार्कनेट प्लेटफॉर्म में शुमार किया जा रहा है. रिपोर्ट्स के अनुसार, इस प्लेटफॉर्म पर 4 लाख से ज्यादा रजिस्टर्ड सदस्य थे ।

जर्मनी में चाइल्ड पोर्नोग्राफी के एक प्रमुख रैकेट का खात्मा किया गया है. इसे दुनिया के सबसे बड़े चाइल्ड पोर्नोग्राफी के डार्कनेट प्लेटफॉर्म में शुमार किया जा रहा है. रिपोर्ट्स के अनुसार, इस प्लेटफॉर्म पर 4 लाख से ज्यादा रजिस्टर्ड सदस्य थे।

जर्मन प्रशासन का कहना है कि ये प्लेटफॉर्म दुनिया का प्रमुख चाइल्ड पोर्नोग्राफी प्लेटफॉर्म था और साल 2019 से एक्टिव था. इस प्लेटफॉर्म पर पीडोफाइल्स चाइल्ड पॉर्न शेयर करते थे और देखते थे ।

जर्मनी की एक पुलिस टास्क फोर्स पिछले कुछ महीनों से इस प्लेटफॉर्म की जांच पड़ताल कर रही थी. वो इस प्लेटफॉर्म के संस्थापकों और यूजर्स पर भी कड़ी निगरानी रख रही थी. जर्मन पुलिस ने इस मामले में हॉलैंड, स्वीडन, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और कनाडा के कानून प्रशासन और यूरोपोल की सहायता भी ली थी।

गौरतलब है कि अप्रैल के महीने में रेड पड़ने के बाद से ही ये ऑनलाइन प्लेटफॉर्म बंद कर दिया जा चुका है. इन तीन मुख्य आरोपियों में एक 40 साल का शख्स है जो पेडरबोर्न का रहने वाला है. इसके अलावा एक 49 साल का शख्स है जो म्युनिख में रहता है. इसके अलावा एक 58 साल का शख्स है. ये व्यक्ति जर्मनी में पैदा हुआ है लेकिन वो कई सालों से पैराग्वे में रह रहा था ।

इन तीनों पर आरोप है कि ये इस वेबसाइट के एडमिन के तौर पर काम करते थे और ये इस प्लेटफॉर्म के सदस्यों को सलाह देते थे कि गैर-कानूनी चाइल्ड पोर्नोग्राफी का इस्तेमाल करने पर कैसे कानूनी कार्यवाई से बचा जा सकता है. इसके अलावा चौथा आरोपी 64 साल का शख्स है जो हैमबर्ग का रहने वाला है ।

इस शख्स पर आरोप है कि वो इस प्लेटफॉर्म पर सबसे ज्यादा एक्टिव यूजर्स में से एक था और उसने इस प्लेटफॉर्म पर 3500 से अधिक पोस्ट्स अपलोड किए थे. इस व्यक्ति को पैराग्वे में अरेस्ट किया गया है और अब जर्मन प्रशासन इस व्यक्ति को पैराग्वे से वापस जर्मनी मे लाना चाहता है ।

जर्मनी के टॉप सिक्योरिटी अधिकारी ने इस मिशन के सफल होने पर प्रशासन को बधाई दी है. इस मामले में जर्मनी के इंटीरियर मिनिस्टर होर्स्ट सीहोफर ने कहा कि हमारी हमेशा कोशिश रहती है कि बच्चों के खिलाफ होने वाले इन घिनौने अपराधों से उन्हें बचाया जा सके. इस जांच से साफ है कि जो लोग बच्चों का शोषण करते हैं, वे किसी भी हालत में बच नहीं सकते हैं ।

News Source : https://www.aajtak.in/trending/photo/germany-destroyed-biggest-child-pornography-platform-and-four-lakh-members-were-active-tstv-1249912-2021-05-05