ग्रेटर नोएडा/बिलासपुर।  ‘मंजिलें उन्हीं को मिलती हैं जिनके सपनों में जान होती है, पंखों से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है।’ कुछ ऐसा ही कर दिखाया है बिलासपुर के निहायत गरीब परिवार के युवक रोहित चौहान ने। युवक रोहित चौहान की कामयाबी पर आज हर कोई खुशी से झूम रहा है। दरअसल बिलासपुर निवासी रोहित चौहान ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क स्थित एसआइईटी में सिविल इंजीनियर बीटेक का छात्र है। तीन नवंबर के कैंपस प्लेसमेंट में छह लाख चालीस हजार सैलरी का ऑफर आया है। खास बात यह है कि रोहित के पिता ठेली वाले हैं और उनकी वार्षिक आय मात्र 50 हजार रुपए से भी कम है। रोहित ने इस मुकाम तक पहुंचने के लिए काफी संघर्ष भरा रास्ता तय किया है। क्षेत्र के युवकों के लिए एक मिसाल है। वहीं रोहित चौहान ने ग्रैजुएट एप्टीटुड टेस्ट इन इंजीनियरिंग में आल इंडिया में 178 रैंक लाकर देश के प्रसिद्ध आईआईटी दिल्ली में वैज्ञानिक रिसर्च के लिए चयन हुआ। क्षेत्र के लिए गौरवमय मुकाम हासिल कर दिखाया है।

रोहित की पढ़ाई के लिए परिवार ने झेली मुसीबतेंnoida news hindi today

दैनिक जागरण समाचार पत्र के पत्रकार से बातचीत में रोहित चौहान ने बताया कि उसकी पढ़ाई के लिए उसके परिवार ने काफी मुसीबतें झेली हैं। रोहित का कहना है कि उसके परिवार ने उन्हें अच्छे स्कूल में नहीं पढ़ा सके इसका मलाल है। लेकिन, अच्छी शिक्षा पढ़ाने के लिए शुरू से ही मुसीबतों का सामना करना पड़ा है। रोहित ने बताया उनके पिता व माता हमारी शिक्षा के लिए चाट समोसे ठेली का पेशा अपनाना पड़ा। लेकिन, करोना में यह कारोबार ने हमारे परिवार की रोजी-रोटी के साधन को बर्बाद कर दिया। इस कारोबार के बंद कारण उनके पिता के सामने काम का संकट पैदा होने लगी। इस कारण पूरे परिवार को जीवन के लिए जरूरी चीजों के लिए भी संघर्ष करना पड़ता था।

सब्सिडी पर निर्भर रहता था परिवार noida news hindi

रोहित ने बताया कि पिताजी का कार्य पूरी तरह से ठप होने के बाद उनका पूरा परिवार सरकार की ओर से मिलने वाली सब्सिडी पर निर्भर हो गया। हालांकि, इससे भी परिवार की सभी जरुरतों को पूरा करने में कठिनाई होती थी। लाखों के पैकेज हमारे परिवार के लिए वरदान साबित जैसा लग था।

मां-पिता व भाई-बहन के सपना होंगे साकारgreater noida news hindi

रोहित चौहान ने हमारे इस पैकेज से मां-पिता के सपने ही नहीं भाई बहन का भविष्य साकार होना था। अब आईआईटी चयन में उनके आर्थिक स्थिति पर असर पड़ेगा।

27 नवंबर को आईटी कम्पनी कराई टूरnoida news in hindi

रोहित ने बताया 27 नवंबर को आईटी कम्पनी हैदराबाद, चेन्नई, गोवा व मुम्बई टूर के पश्चात डिपार्टमेंट एयरपोर्ट प्रोजेक्ट इंजीनियर के लिए तैनाती करेगी। लेकिन, अब आईआईटी दिल्ली में पढ़ने की तैयारी में शामिल होंगे।

ताने अब तारीफ बने खुशी

मां कुसुम व पिता उमेश ने बताया मेहनत व मजदूरी गरीबी से परेशान नहीं हैं। दिन-रात मेहनत कर इंजीनियर बनाने में गाढी कमाई फूंकने का लोगों का उलाहना मन विचलित करता था। बेटे का निर्णय परिवार की मेहनत कामयाब रही। हमारे जैसे परिवार के माता-पिता व बच्चों का मनोबल बढ़ेगा। बता देंं कि बीटेक छात्र रोहित चौहान के पिता बिलासपुर बस अड्डे पर चाट समोसे का ठेला लगाते हैं।

आर्थिक तंगी में सपना की दरकार

रोहित चौहान बताते है सिविल सर्विसेज की तैयारी व परीक्षा की तमन्ना है। काश आर्थिक तंगी आड़े नहीं आती। आई ए एस बनने की तमन्ना है अगर आर्थिक मदद मिल जाती। लेकिन, पारिवारिक सदस्यों की आर्थिक जिम्मेदारी परेशानी की सबब बन रही है।

noida news hindi today, today noida news in hindi, latest noida news in hindi, greater noida news hindi today, greater noida news hindi live, gr noida news hindi, dadri greater noida news in hindi, noida news in hindi amar ujala, kulesra village greater noida news in hindi, delhi noida news in hindi, gautam budh nagar news in hindi

News Source : https://www.jagran.com/uttar-pradesh/noida-ncr-read-the-inspiring-story-of-son-of-a-roadside-handcart-in-bilaspur-went-to-iit-delhi-jagran-special-21812969.html