दूरदराज़ इलाकों से इलाज कराने पहुँचते मरीज़ों को इलाज के इंतज़ार में बैठे रहना पड़ा ! कुछ लोग तो अपना इलाज करवा ही वापस आए तो कुछ लोगों को निराश होकर ख़ाली हाथ वापस आना पड़ा ।

इन दिनों बुखार का मौसम चल रहा है लोग बीमारी से परेशान है इसके चलते दूरदराज़ के इलाकों से लोग शहर के लोहिया अस्पताल में इलाज की आस में पहुँचे । पहले तो भीड़ में खड़े होकर लोगों ने पर्चा बनवाया और डॉक्टर के इंतज़ार में बैठे रहना पड़ा । डॉक्टर इमरान की ड्यूटी आपातकालीन कक्ष में होने के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा । परेशान लोग आपातकालीन कक्ष में ही पहुँच कर परामर्श लेने लगे तो कुछ लोग निराश होकर घर वापस लौट गए । इसके साथ साथ कुछ और सर्जरी व डॉक्टर अपने कक्ष में नहीं पहुँचे थे।

स्ट्रेचर की भी सुविधा नहीं है उपलब्ध

कार दुर्घटना में घायल हुए रमेश को उसका भाई प्रेम दयाल गंभीर हालत में अस्पताल लेकर पहुँचा लेकिन वहाँ पर स्ट्रेचर उपलब्ध नहीं था जिससे वो मरीज़ को अंदर ले जाए । बहुत आनाकानी करने के बाद एक स्ट्रेचर का जुगाड़ हुआ लेकिन वहां पर कोई वार्ड वाय ने मरीज़ को अंदर ले जाने से मना कर दिया जिसके चलते परिजन ख़ुद ही स्ट्रैचर को धक्का मारकर अंदर तक ले गए यह समस्या आए दिन लोहिया अस्पताल में देखने को मिलती है लेकिन अभी तक इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है ।