24 घंटे में 3 लाख 52 हजार केस. 2812 लोगों की मौत. एक दिन में 3 लाख से ज्यादा केस आते हुए. आज पांचवां दिन है. ये आंकड़े तो भयानक हैं ही लेकिन जमीनी हकीकत इससे भी भयानक है. लोग इलाज और ऑक्सीजन की तलाश में सड़कों पर भटक रहे हैं. रो रहे हैं लेकिन उन्हें राहत नहीं मिल रही. ऑक्सीजन की कमी दूर करने के लिए जल्द से जल्द प्लांट लगाने के दावे हो रहे हैं. ट्रेन चल रही है. नेता आपस में एक दूसरे को बधाइयां भी बांट रहे हैं लेकिन ऑक्सीजन एक्सप्रेस सहित तमाम व्यवस्थाएं अब भी बहुत कम हैं. इसके लिए युद्धस्तर पर काम करना होगा. प्रधानमंत्री मोदी ने आज कोरोना संकट पर काबू पाने के लिए आर्मी की तैयारियों का रिव्यू किया है. इस कठिन समय में भारत को विदेशों से भी मदद मिलनी शुरू हुई है. आज मद्रास हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग के लिए बहुत ही कड़े शब्दों का प्रयोग किया है. इस संकटकाल में मास्क आपके लिए सबसे बड़ा रक्षक साबित हो सकता है. कोरोना वायरस के ट्रिपल म्यूटेंट वेरियंट को बंगाल वेरियंट कहा जा रहा है. ये सभी वैरिएंट्स से ज्यादा खतरनाक है. देखिए इन खबरों की पूरी पड़ताल, खबरदार में, श्वेता सिंह के साथ.

News source

https://www.google.com/amp/s/www.aajtak.in/amp/programmes/khabardar/video/coronavirus-covid-19-crisis-why-india-is-crying-for-oxygen-shortage-1245209-2021-04-26