बिहार : एक बार फिर से 46 साल पुराने मामले में दिल्ली हाई कोर्ट ने संज्ञान लेते हुए ललित नारायण मिश्र हत्याकांड मामले में नए सिरे से सीबीआई को जांच का आदेश दिया है। ललित नारायण मिश्र के पौत्र वैभव मिश्रा की याचिका पर संज्ञान लेते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय ने यह फैसला सुनाया है।

माननीय दिल्ली हाईकोर्ट द्वारा सीबीआई को 6 सप्ताह के अंदर वैभव मिश्रा जी के रिप्रजेंटेशन का जवाब देने हेतु आदेशित किया है।

इस फैसले के बाद मिथिलांचल में खुशी की लहर दौर गयी हैं l झंझारपुर के विधायक, पूर्व मंत्री और ललित बाबू के भतीजे नीतीश मिश्रा ने इस फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि ललित बाबू की निर्मम हत्या देश के इतिहास की सबसे बड़ी और दुखद घटना थी। उन्होंने कहा कि इस फैसले के बाद फिर से सही और निष्पक्ष रूप से जांच की उम्मीद जगी है। आने वाला दिनों में जाँच में सब साफ होगा l वही आशु कुमार झा ने बताया कि जिस फैसले का इंतजार वर्षों से पूरे मिथिलांचल वासी कर रहे है थे वह आज जाकर पूरा हुआ है।

आगे उन्होंने कहा कि इससे न्याय व्यवस्था में लोगों का विश्वास बढ़ेगा और सत्यता की पुष्टि होगी l अब देखना है कि सीबीआई इस मामले में किस प्रकार जांच करती है। खुशी व्यक्त करने वालो में श्री विजय कुमार झा, अधिवक्ता अभिनव नारायण झा, विकास मिश्रा, आदित्य झा सहित अन्य हैं l