नाम नहीं छापने की शर्त पर स्वास्थ्य विभाग के एक बड़े अधिकारी ने बताया कि केवल 1 दिन का किराया भुगतान कर मंत्री जी तमाम सुविधाओं को केवल उद्घाटन करने के लिए यहां पर लाते हैं, लेकिन उद्घाटन होने के साथ ही उसका मालिक उसे वापस लेकर चला जाता है ।

बक्सर: पूरे देश में कोरोना संक्रमण उफान पर है. बिहार में भी संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. मौत के आंकड़े भी बढ़ रहे हैं. उसके बाद भी कुछ नेता और अधिकारी इस आपदा में अवसर की तलाश करने में लगे हुए है. कुछ ऐसा ही मामला केंद्रीय स्वास्थ्य परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के संसदीय क्षेत्र बक्सर में भी देखने को मिला है ।

जहां वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले मंत्री अश्विनी कुमार चौबे की पहल पर एसजेवीएन कंपनी के द्वारा सीएसआर फंड से जिला स्वास्थ्य समिति को 6 एंबुलेंस गिफ्ट किया गया था. लेकिन चुनाव जीतने के बाद मंत्री जी ने सभी 6 एंबुलेंस को जिला स्वास्थ्य समिति से वापस लेकर एचएलएल कंपनी को हैंड ओवर करने का पत्र जारी कर दिया. लेकिन स्थानीय लोगों के विरोध के कारण वह कंपनी एंबुलेंस को बक्सर से बाहर नहीं ले जा पायी. नतीजतन 1 साल से अधिक समय तक एंबुलेंस सदर अस्पताल कैंपस में ही धूल फांकती रही ।

हैदराबाद के एनजीओ को दे दिए 5 एम्बुलेंस
इसी बीच 8 अप्रैल 2021 को केंद्रीय स्वास्थ्य परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने विभागीय पत्र जारी कर बक्सर सिविल सर्जन को एसजेवीएन कम्पनी द्वारा गिफ्ट किये गए 6 एम्बुलेंस में से 5 एंबुलेंस धनुष फाउंडेशन को हैंड ओवर करने का निर्देश दे दिया. जिसके बाद जिला स्वास्थ्य समिति के अधिकारियों ने 5 एम्बुलेंस हैदराबाद के एनजीओ धनुष फाउंडेशन को हैंडओवर कर दिया और सभी एम्बुलेंस बक्सर से बाहर भेज दिया गया ।

ईटीवी भारत ने खबर दिखाई तो शुरू हुआ विरोध
ईटीवी भारत ने प्रमुखता से इस खबर को दिखाया, इसके बाद स्थानीय लोगों ने सोशल मीडिया पर एंबुलेंस की वापसी के लिए मुहिम छेड़ दी, जिसके बाद सदर कांग्रेसी विधायक संजय तिवारी उर्फ मुन्ना तिवारी ने जिला अधिकारी से लेकर बक्सर अनुमंडल पदाधिकारी तक को पत्र लिखकर 48 घंटे के अंदर एंबुलेंस वापस नहीं आने पर अनिश्चितकालीन धरना देने की घोषणा की. विधायक के इस घोषणा के 5 घंटे के अंदर ही दबाव में सभी 5 पुराने एंबुलेंस पर नए स्टिकर लगाकर जिले में वापस ला दिया गया है।

एक ही एम्बुलेंस का दूसरी बार उदघाट्न करेंगे मंत्री जी
अब उसी एंबुलेंस का केवल स्टीकर बदलकर दूसरी बार शनिवार को वर्चुअल तरीके से उसका उद्घाटन करेंगे, जिसकी तैयारी में बीजेपी के तमाम नेता लगे हुए हैं. यह पहला मामला नहीं है इससे पहले भी मंत्री जी इस तरह का काम कर चुके हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले जब केंद्रीय स्वास्थ्य परिवार कल्याण राज्य मंत्री सह स्थानीय सांसद अश्विनी कुमार चौबे को इस बात का एहसास हुआ कि वह अपने संसदीय क्षेत्र की जनता के लिए कुछ नहीं कर पाए हैं तो उन्होंने सबसे पहले पुराने सदर अस्पताल की पेंटिंग कराकर उसे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कन्वर्ट कर उसका उद्घाटन कर दिया और चुनाव से ठीक पहले उसी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का फिर नाम बदलकर हेल्थवेलनेस सेंटर कर दिया और 8 महीने के अंदर एक ही अस्पताल का दूसरी बार उदघाट्न कर दिया ।

News Source :https://react.etvbharat.com/hindi/bihar/state/buxar/ashwini-choubey-will-inaugurate-ambulance-for-the-second-time-after-putting-new-stickers/bh20210514221203104